Click here to Print


एन.सी.एम.ई.आई के समक्ष अल्पसंख्यक दर्जा प्रमाणपत्र प्रदान करने हेतु आवेदन दाखिल करने की प्रक्रिया (धारा 12 बी)

अल्पसंख्यक दर्जा प्रमाणपत्र प्रदान करने हेतु आयोग को निर्धारित प्रपत्र में एक आवेदन किया जा सकता है, यदि एम.एस.सी. प्रदान करने हेतु संस्था का आवेदन लम्बे समय (राज्य सरकार को आवेदन दाखिल करने तिथि से तीन महीने से अधिक) से राज्य सरकार के समक्ष लंबित हो अथवा राज्य सरकार द्वारा निर्धारित प्राधिकरण ने अस्वीकार कर दिया हो। आवेदक को आवेदन सबसे पहले अल्पसंख्यक दर्जा प्रमाणपत्र प्रदान करने हेतु राज्य सरकार द्वारा स्थापित प्राधिकरण के समक्ष करना चाहिए। यदि प्राधिकरण अल्पसंख्यक दर्जा प्रमाणपत्र प्रदान करती है तो आयोग को संपर्क करने की कोई आवश्यकता नहीं है। परंतु प्राधिकरण द्वारा आवेदन को अस्वीकार अथवा अत्यधिक विलंब करने के मामले में आयोग को आवेदन किए जा सकते हैं। 

अपेक्षित दस्तावेज

 

  1. आवेदक अल्पसंख्यक संस्था को पब्लिक ट्रस्ट अधिनियम 1950 के तहत ट्रस्ट अथवा सोसायटीज पंजीकरण अधिनियम 1860 के तहत सोसायटी के रूप में पंजीकृत होना चाहिए। सोसायटी के मामले में सोसायटी पंजीकरण प्रमाणपत्र की प्रति आवदेनपत्र के साथ संलग्न करना चाहिए। सभी संशोधनों के साथ ट्रस्ट विलेख, एसोसिएशन का ज्ञापन, नियम एवं विनियम/उपनियम की एक प्रति संलग्न की जानी चाहिए। उचित मूल्य के गैर-न्यायिक स्टांप पेपर पर निर्धारित प्रारूप के अनुसार सोसायटी/ट्रस्ट के अध्यक्ष/सचिव द्वारा हस्ताक्षरित शपथपत्र को भी संलग्न किया जाना चाहिए। 
     
  2. व्यक्तिगत रूप से संस्था चलाने के मामले में एक शपथपत्र पर आवेदन किया जाना चाहिए। उन्हें शैक्षणिक संस्था चलाने हेतु संबंधित शिक्षा प्राधिकरणों की संबद्धता/अनुमोदन की एक प्रति भी संलग्न करनी चाहिए। 
     
  3. आवेदक संस्थान की सोसायटी की प्रबंधन समिति क़े न्यासियों/सदस्यों में आवेदक अल्पसंख्यक समुदाय का बहुमत (अर्थात कम से कम 51%) होना चाहिए।
     
  4. संलग्नक के रूप में सभी संगत दस्तावेज की प्रति सहित आवेदन के पांच अतिरिक्त सेटों सहित प्रस्तुत किया जाना चाहिए। 


नोट : सुनवाई के समय न्यायालय द्वारा ऐसे अतिरिक्त दस्तावेजों की मांग की जा सकती है जो अल्पसंख्यक संस्था होने संबंधी संस्था के दावे को सही साबित करते हो।